Home Highlights Truth about real bahubali – who is real bahubali

Truth about real bahubali – who is real bahubali

63
0
SHARE
Truth about real bahubali - who is real bahubali
Truth about real bahubali - who is real bahubali

Truth about real bahubali – who is real bahubali

Know about real bahubali, who is real bahubali – असली बाहूबाली के बारे में जानिए

Truth about real bahubali - who is real bahubali
Truth about real bahubali – who is real bahubali

इनकी कहानी आपको दंग कर देगी बाहुबली जैन समुदाय के लोगो के बीच एक सम्मानजनक नाम है, जैन धर्म के पहले तिर्थंकार ऋषभनाथ के बेटे थे। कहा जाता है की उन्होंने एक साल तक पैरो पर खड़े होकर ही स्थिर तपस्या की थी इस समय उनके पैरो के आस-पास के काफी पेड़ भी बड़े हो गए थे। जैन सूत्रों के अनुसार बाहुबली की आत्मा जन्म और मृत्यु से परे थी, और हमेशा कैलाश पर्वत पर ही वे तपस्या करते थे। जैन लोग उन्हें आदर से सिद्ध कहते है। गोमतेश्वर की मूर्ति उन्हें समर्पित होने की वजह से उन्हें गोमतेषा भी कहा जाता था। इस मूर्ति को गंगा साम्राज्य के मिनिस्टर और कमांडर चवुन्दराय ने बनवाया था, यह मूर्ति 57 फूट एकाश्म है, जो भारत के कर्नाटक राज्य के हस्सन जिले के श्रवनाबेलागोला पहाड़ी पर बनी हुई है। इस मूर्ति को 981 के दरमियाँ बनाया गया था। और दुनिया में यह सबसे विशाल मुक्त रूप से खड़ी मूर्ति है। वे मन्मथा के नाम से भी जाने जाते है। जैन सूत्रों के अनुसार, बाहुबली का जन्म भगवान ऋषभनाथ और माँ सुनंदा को इक्षवाकू साम्राज्य के समय में अयोध्या में हुआ था। कहा जाता है की औषधि, तीरंदाजी, पुष्पकृषि और बहुत से कीमती रत्नों के ज्ञान में वे निपुण थे। बाहुबली का एक बेटा सोमकिर्ती (महाबाला) भी थे जैन ग्रंथों के अनुसार जब ऋषभदेव ने संन्यास लेने का निश्चय किया तब उन्होंने अपना राज्य अपने १०० पुत्रों में बाँट दिया। भरत चक्रवर्ती जब छ: खंड जीत कर अयोध्या लौटे तब उनका चक्र-रत्न नगरी के द्वार पर रुक गया। जिसका कारण उन्होंने पुरोहित से पूछा। पुरोहित ने बताया की अभी आपके भाइयों ने आपकी आधीनता नहीं स्वीकारी है। भरत चक्रवर्ती ने अपने सभी 99 भाइयों के यहाँ  अपने दूत भेजे। 98 भाइयों ने जैन दीक्षा ले ली और जैन मुनी बन गए

Know about real bahubali, who is real bahubali – असली बाहूबाली के बारे में जानिए